computer क्या है |computer full Information 2020

Published by Deependra Kashyap on

computer kya hai full information in hindi 2020

कंप्यूटर क्या है[ computer kya hai ] ये आप भलीभांति जानते होंगे लेकिन आप इसके बेसिक को किस प्रकार दर्शाया जाय यही आप सोच रहे होंगे तो आज हम आपको कंप्यूटर से जुडी बेसिक जानकारी दूंगा और साथ ही साथ इसके बारे में विस्त्रार से बताऊंगा |

computer kya hai

computer kya hai

computer kya hai

computer meaning in hindi:-

कंप्यूटर को हिंदी में संगडक यंत्र कहा जाता है |अर्थात कंप्यूटर गणितीय या अगणितीय क्रियाओ को करने वाला एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है |
computer शब्द अंग्रेजी भाषा के compute शब्द से मिलकर बना है जिसका अर्थ है गणना करना या गिनती करना | तथा कंप्यूटर का जनक चालर्स बैबेज को कहा जाता है | ऐसा इसलिए क्युकी उन्होंने ही सबसे पहले machenical computer का अविष्कार किया था |
इसलिए इसे संगणक यंत्र कहा जाता है इसको सबसे पहले सिर्फ कैलकुलेशन करने के लिए बनाया गया था |फिर धीरे धीरे इसको अपडेट करके इसमें नए नए और फीचर जुड़ते गए और साथ ही इसके आकार भी छोटा होता गया |साथ ही यह और अधिक तेजी से कार्य करने लगा |

Gmail account kaise banaye

Computer defination ( कंप्यूटर की परिभाषा ) 

oxford dictionary के अनुसार-  कंप्यूटर एक स्वचालित इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जो अनेक प्रकार के तर्कपूर्ण गणनाओं के लिए प्रयोग किया जाता है |
सरल भाषा में कंप्यूटर की परिभाषा
कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जिसका मुख्य कार्य डाटा का आदान प्रदान करना है |
इसके मुख्य तौर पर तीन कार्य है पहला डाटा को लेना जिसे हम INPUT कह सकते है और दूसरा काम डाटा को PROCESSING करने का होता है और अंतिम कम उस process किये डाटा को दिखाने का होता है जिसे हम OUTPUT कहते है |

computer full form-

हम यदि एक्सपर्ट लोगों से पूछे की कंप्यूटर का full form क्या है तो वे सभी अपनी अपनी मत से कंप्यूटर का full form बताएँगे, लेकिन सच तो यह है की कंप्यूटर का कोई full form नहीं होता है |फिर भी आज हम अपने अनुभव के अनुसार कंप्यूटर का full form बता रहे है-

C –          COMMON,                              
O –         OPRATING                              
M –        MACHINE                               
P –         PARTYCULARY                      
U –        USED FOR                               
T –        TECHNOLOGY                        
E –        EDUCATION                            
R –       REASEARCH                             

COMPUTERS HISTROY ( कंप्यूटर का इतिहास ) 

कंप्यूटर के History को उनके कार्य के आधार पर , साइज़ के आधार पर और उसमें बदलाव के अनुसार उसे 5 जनरेशन  में विभाजित किया गया है-


FRIST GENERATION ( 1940-1956 ) VACUME TUBE

इस जनरेशन में कंप्यूटर का साइज़ बहुत बड़ा होता था साथ ही इसे एक जगह से दुसरे जगह नहीं ले जाया जा सकता था|ये बहुत महंगे हुआ करते थे | साथ ही यह बहुत जल्दी हीट हो जाता था | तथा इस जनरेशन के कंप्यूटर में VACUME TUBE का प्रयोग किया जाता था |तथा इसमें मशीनी लैंग्वेज का इस्तेमाल किया जाता था |तथा इसमें डाटा  को पंच कार्ड पर में स्टोरेज  करके रखा जाता था |
EX- UNIVAC

SECOND GENERATION ( 1956-1963 ) TRANSISTOR 

सेकंड जनरेशन में VACUME TUBE की जगह ट्रांजिस्टर ने ले ली, साथ ही यह Vacume tube से कम जगह लेता था और यह उससे अधिक फास्टर था | फिर भी इसमें भी हीट होने की परेशानी आता था |लेकिन अभी भी डाटा को स्टोर करने के लिए पंच कार्ड का यूज़ किया जाता था , तथा इसमें मशीनी लैंग्वेज की जगह असेंबली लैंग्वेज ( cobol, Fortran ) का यूज़ किया जाता है |


THIRD GENERATION ( 1964-1975 ) INTEGRATED CIRCUIT

थर्ड जनरेशन में ट्रांजिस्टर की जगह IC ( INTEGRATED CIRCUIT ) ने ले ली ,
जहाँ पर ट्रांजिस्टर को छोटे छोटे भागों में विभाजित कर सिलिकॉन चिप के अन्दर डाला जाता था |
जिसे सेमीकंडक्टर कहा जाता था |तथा इसमें मोनिटर कीबोर्ड और OPRATING SYSTEM का इस्तेमाल किया जाता था , जिससे कंप्यूटर के कार्य करने का छमता कुछ हद तक बढ़ गया , और इस जनरेशन के कंप्यूटर को मार्केट में लांच किया गया था |और साथ ही यह बहुत छोटा हो गया था और इसको इस्तेमाल करने में आसान था , और इसको आसानी से एक स्थान से दुसरे स्थान ले जाया जा सकता था , लेकिन अभी भी इस जनरेशन के कंप्यूटर में बदलाव होने की आवश्यकता था |

FORTH GENERATION ( 1976-1989 ) MICROPROCESSOR

इस जनरेशन में माइक्रोप्रोसेसर का इस्तेमाल किया जाने लगा , जिससे हजारो IC को सिलिकॉन चिप के अन्दर लगाया जाने लगा जिसके कारण बड़े बड़े कैलकुलेशन आशानी से बहुत ही कम समय में कर लिया जाता था|और साथ ही उच्च गति के नेटवर्क का विकास हुआ जिसे हम LAN और WAN के नाम से जानते है और इसी जनरेशन में MS DOS और अन्य OPRATING SYSTEM का विकास हुआ |जिसके वजह से मल्टीमीडिया प्रचालन में आया , और साथ ही इसी समय C LANGUAGE का विकास हुआ जिससे प्रोग्रामिंग करना सरल हो गया |

FIFTH GENERATION ( 1989- FUTURE ) ARTIFICIAL INTELLIGENCE

इस दौर ने आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस जैसी बड़ी चीज हासिल कर लिया है उदहारण के लिए आप कोर्टाना को देख सकते है , अर्थात आर्टिफीसियल होने के कारण कंप्यूटर में स्वयं निर्णय लेने की छमता होगी और वह स्वयं ही निर्णय ले सकता है साथ ही साथ ultra large scale integration ( ULSI ) आप्टिकल डिस्क का प्रयोग किया जाने लगा साथ ही साथ कम से कम जगह में अधिक डाटा स्टोर किया जाने लगा , और इस पीढ़ी में पोर्टेबल कंप्यूटर , लैपटॉप , डेस्कटॉप आदि के अविष्कार ने क्रांति ला दिया साथ ही साथ internet , सोशल मीडिया , www का विकास हुआ , और window XP को भुलाया नहीं जा सकता है |विकास अभी भी जारी है |

COMPUTER की  विशेषताएं 

1.गति  कंप्यूटर  कुछ ही सेकंड में लाखों करना है आसानी से कर सकता है, अर्थात कंप्यूटर में आंकड़ों को तीव्र गति से संशोधित किया जा सकता है कंप्यूटर नैनो सेकंड  मैं  गणना कर सकता है|

2. त्रुटिहिन कार्य कंप्यूटर पर आप किसी भी प्रश्न का बिना किसी त्रुटि के सटीक जवाब प्राप्त कर सकते हैं, अर्थात आप कंप्यूटर से शुद्ध परिणाम प्राप्त कर सकते हैं. कभी-कभी ही प्रोग्रामर के द्वारा गलत प्रोग्राम करने पर हमें कंप्यूटर में गलत सूचनाएं दे सकता है|

3. स्टोरेज क्षमता कंप्यूटर में आप आंकड़ों एवं प्रोग्रामों को स्टोरेज करके रख सकते हैं, इसमें आप एक्सटर्नल मेमोरी भी यूज कर सकते हैं और इंटरनल मेमोरी में भी आप डाटा को  स्टोर कर रख सकते हैं|

कंप्यूटर की सीमाएं

विवेकहीनता

भावुकता का अभाव

विद्युत पर निर्भर

वायरस से प्रभाव

COMPUTER के उपयोग 

अनुसंधान के क्षेत्र में
रेलवे के क्षेत्र में
वायुयान के क्षेत्र में
शिक्षा के क्षेत्र में
बैंक के क्षेत्र में
व्यापर के क्षेत्र में
संचार के क्षेत्र में
मनोरंजन के क्षेत्र में

COMPUTER के कार्य-

Data collection
Data storage
Data processing
Data output

हमारे अन्य post-

Whatsapp में Group कैसे बनाते है 

ATM card से मोबाइल नंबर रिचार्ज कैसे करें

Computer hardware और software क्या है

मोबाइल नंबर को PORT कैसे करें

ATM कार्ड क्या है और कैसे पहचानें, Debite और Credit कार्ड में अंतर

मोबाइल हैंग होने के कारण और दूर करने के उपाय

Gmail क्या है और gmail account कैसे बनायें

Promocode क्या होता है

महत्वपूर्ण वेबसाइट


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *